सिर्फ सपने देखना काफी नहीं होता है – हमें चाहिए वो जोश और हिम्मत जो इन सपनों को सच करने की ताकत दे। एक ऐसी ताकत जिसमें “difficult”, “impossible” “sure to fail” का कोई स्थान ही नहीं हो।

ऐसा जोश सिर्फ उनके पास होता है जो ज़िन्दगी से सचमुच प्यार करते हैं और अपनी सफलता के रास्ते में कोई बाधा या रुकावट को आने नहीं देते। एक अटूट हौसला, mental strength और लगातार अथक परिश्रम ही इनके सफलता का कारण है क्योंकि बाधाएं तो मात्र एक चुनौती हैं ऊँचाइयों को छूने के लिए।

Power Lifter शक्ति , Mt Everest विजेता सुश्री अरुणिमा सिन्हा या फिर सुश्री नवजोत कौर सिद्धू की कहानी- उन्ही की ज़ुबानी सुनिए और प्रेरित हो जाईये I

Credits : Josh Talks Hindi

More Resources:

Arunima Sinha has penned a book ‘ Born Again on the Mountain: A Story of Losing Everything and Finding It Back ‘ .

A National level volley ball player, Arunima Sinha had a horrific accident, where she was shoved off by thieves from a moving train while she was fighting with them. She lost her left leg due to the fall. But it was never a deterrent for her.
With all mental strength and determination she retrained herself as a mountaineer and became the first female amputee to reach Mount Everest.

Available at Amazon

0 Shares:
5 comments
  1. Pingback: URL
  2. Pingback: Kingmaker

Comments are closed.

You May Also Like
Read More

आवाज का जादूगर – ज़ोर बोले

कितना बुरा हो अगर हमारी आवाज़ हमसे छीन ली जाए ! हम बोलें मगर कोई कोई सुन समझ नहीं पाए ! ये कल्पना कर पाना भी मुश्किल है। आवाज़ का जादूगर जोरबोले लोगों की आवाज़ जादू से चुराकर अपने आवाज़ में मिला लेता था।...